लक्ष्य को क्यों और कैसे बनाए?

लक्ष्य, सभी के जीवन का सबसे कठिन सवाल। इस लेख को पढ़ने से पहले खुद अपने लक्ष्यों के बारे में जरुर सोचे।

आपके जीवन के लक्ष्य क्या हैं?

क्या आपने अपने जीवन के लक्ष्य निर्धारित किए हैं?

यदि हां, तो क्या आपने इसे प्राप्त करने के लिए मार्ग और समय निर्धारित की है?

यदि नहीं, तो चिंता न करें, यह लेख आपको लक्ष्य निर्धारित करने और उन्हें प्राप्त करने में मदद करेगा।

“यदि आप एक खुशहाल जीवन जीना चाहते हैं, तो इसे लोगों और चीजों से नहीं, लक्ष्यों से बांधें।”

– अल्बर्ट आइंस्टीन

लक्ष्य क्या हैं?

जीवन मे सफलता प्राप्त करने के लिए लक्ष्य व उद्देश्य का होना आवश्यक हैं। यह आपके सफल जीवन का मार्ग  है,जिससे जो आप चाहते हैं उसे प्राप्त करने के लिए सक्षम हो सके। लक्ष्य जीवन का ईंधन हैं। जैसे हर जीवित या निर्जीव चीजों को जीने के लिए भी  ईंधन की आवश्यकता होती है। वैसे ही, मानव को अपने जीवन को जीने के लिए लक्ष्यों व उद्देश्य की आवश्यकता होती है। अब आप सोच रहे होंगे कि नहीं! इंसान को जीने के लिये भोजन और पानी की जरूरत है। यहां मैं आपका ध्यान आकर्षित करवाना चाहूँगी कि, भोजन और पानी तो मानव शरीर को चलाने के लिए चाहिए, जीने के लिए नहीं।

लक्ष्यों का महत्व 

यदि आप अपने जीवन के लक्ष्य निर्धारित करते हैं, तो जीवन पूरी तरह से बदल जाएगा। हमें पता होना चाहिए कि व्यापार(Business) के लिए दौड़ना और व्यवसाय(Business) का पीछा करना दोनो ही अलग बात है और इससे आपकी सफलता पर बहुत फर्क पड़ता है।

ज़रा एक बार सोचिए “क्या पत्र बिना किसी पते के कहीं भी पहुंच सकता है?”

लक्ष्यों के बिना जीवन टेंपल रन गेम (temple run) की तरह है, जहाँ आप बिना किसी कारण के दौड़ रहे हैं, बस दौड़ रहे है। आप तब तक सफल नहीं हो सकते जब तक आपके जीवन में लक्ष्य नहीं हैं, नही तो आप अपना पूरा जीवन भाग-दौड़ मे निकाल देंगे और कुछ हासिल नही होगा।

नेटवर्क मार्केटिंग में लक्ष्यों का महत्व 

नेटवर्क मार्केटिंग में आपको कई समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। बहुत से लोग जिनसे आपको बहुत उम्मीदें हैं, वे शायद आपका साथ ना दे। कई सफल नेटवर्कर के माता-पिता और परिवार के सदस्य शुरू में उनके साथ नहीं थे। इस तरह की स्थितियाँ आपको नीचे खींचने की कोशिश करेगी, लेकिन केवल एक चीज जो आपका साथ देगी और आपको सफलता की ओर प्रेरित करेगी, वह है आपके लक्ष्य और उसे पूरा करने का जुनून।

जिस प्रकार तीरंदाज को कहा जाता कि लक्ष्य से थोड़ा ऊपर निशाना लगाए क्योंकि गुरुत्वाकर्षण भी अपनी भूमिका निभाते हुए तीर को नीचे करेगी। इसी तरह, कुछ परिस्थितियां आपको लक्ष्य तक पहुंचने मे रुकावट पैदा करेगी, लेकिन लक्ष्य ही एकमात्र मार्ग होगा जो आपको व्यवसाय के लिए प्रेरित करेगा।

अपनी टीम के साथ अपने लक्ष्य के बारे मे बताए, इससे आपके टीम के सदस्यों में विश्वास बढ़ेगा।

जिस प्रकार से पत्तों पर पानी छिड़कने से जड़ें मजबूत नहीं हो सकती हैं, जड़ों को पानी देना ही होगा उसी प्रकार लक्ष्य बिज़नेस(Business) की जड़ हैं।

लक्ष्य कैसे निर्धारित करें?

हमने अब तक लक्ष्य के बारे में चर्चा की, इसके महत्व, अब हम चर्चा करेंगे कि लक्ष्य को कैसे निर्धारित किया जाए?

समय सीमा के आधार पर दो तरह से लक्ष्य को निर्धारित किया जा सकता है:

1. कम समय मे लक्ष्य प्राप्ति (STG)-

आप 2-3 साल से कम समय में अपने लक्ष्य को हासिल करना चाहते हैं? एस. टी. जी. (STG) एक ऐसे  लक्ष्यो को कहते है जिसे आप आने वाले भविष्य (एक महीने, एक साल में) मे हासिल करना चाहते है। यह एक पेन या एक महंगा फोन भी हो सकता है। कम समय में लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए हमेशा समय सीमा का होना आवश्यक है।

यह लक्ष्य छोटे अवश्य दिखाई देते हैं, लेकिन उन्हें पाना, जीवन और कैरियर में बड़ी सफलताओं तक पहुंचाने के लिए प्रोत्साहित करते है। यह बड़े लक्ष्यों व सफलता के मार्ग के लिए ईंधन का काम करती है।

2. लम्बे समय मे लक्ष्य प्राप्ति (LTG) –

वह लक्ष्य जिन्हें आप 5 से अधिक वर्षों में हासिल करना चाहते हैं। कम समय मे हासिल करने वाले लक्ष्यों की प्राप्ति आपको लम्बे समय लक्ष्यों के लिए बहुत प्रेरित करती है व लक्ष्यों को प्राप्त करवाने मे महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। लक्ष्य, जैसे -बन्गला, वित्तीय स्वतंत्रता(Financial Freedom) आदि हो सकते हैं।

लक्ष्य प्राप्त करने के लिए कुछ बुनियादी कदम:

  • अपने लक्ष्यों के बारे में लिखे।
  • अपने 3 से 5 लक्ष्यों को चिह्नित करे।
  • अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए 5 तरीके लिखे। इस संसार में  मनुष्य का दिमाग किसी चमत्कार से कम नही है। आप अपने दिमाग से कुछ भी पूछ सकते हैं, यह हमेशा आपके सवालो को समाधान के साथ जवाब देगा। अपने लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए उन सभी तरीको का अभ्यास करे जिन्हे आपने लिखा है।
  • अपने पहले लक्ष्य का एक पोस्टर बनाएं और उसे दीवार पर चिपकाएँ, जहाँ से आप उसे रोज देख सके। उस पर एक तारीख डालें। यह अभ्यास आपको लक्ष्य की प्राप्ति के लिए याद दिलाता रहेगा।
  • अपने लक्ष्यों  का हिसाब रखे :

इस तरीके से सूची बना सकते है:

Dream Name Details Cost Terms (Short/Medium/Long) Target Date

सारांश:

आम तौर पर, हर कोई अपने कल्पनाओ के जीवन को “ड्रीम लाइफ” अर्थात् “सपनो की दुनिया” का नाम दे देता है। कहा जाता है, और हम यह मानने लग जाते हैं कि एक दिन आएगा जब मैं अपने सपनों का जीवन जी रहा होगा। क्या आपने कभी सोचा है कि आप अपने सपनों का जीवन कब जी रहे होंगे?

केवल एक चीज जो भूल जाते है, आप अपने सपनों पर कभी विचार नहीं कर पाते हैं। लक्ष्य कुछ और नहीं, बल्कि समय सीमा के साथ सपने ही हैं।

1960 में, होंडा मोटर ने एक लक्ष्य निर्धारित किया। “हम प्रतियोगिता को नष्ट कर देंगे।”

1970 में, नाइक ने एक लक्ष्य निर्धारित किया। “एडिडास को क्रश(Crush) कर देंगे।”

जिस प्रकार किसी यात्रा में व्यक्ति बिना किसी मंजिल के नहीं पहुंच सकता है। इसी तरह, व्यक्ति लक्ष्यों के बिना सफल नहीं हो सकता।

केवल लक्ष्य सूची बनाना ही किसी को सफल नहीं बनाता, आपको इसे प्राप्त करने के लिए काम करना होगा और, यह आपको सफलता की ओर ले जाएगा।

Advertisements

One comment

Leave a Reply

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *